Share
लाहौर आत्मघाती हमले में शामिल 10 आतंकी मारे गए

लाहौर आत्मघाती हमले में शामिल 10 आतंकी मारे गए

लाहौर। पाकिस्तान के लाहौर शहर में गत फरवरी में माल रोड पर हुए आत्मघाती हमले में शामिल आठ आतंकवादी आज तड़के यहां पुलिस के साथ हुई गोलीबारी में मारे गए। ये आतंकवादी जमात उल अहरार और तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान संगठनों से ताल्लुक रखते थे। पंजाब पुलिस के आतंकवाद रोधी विभाग (सीटीडी) के अनुसार मारे गए आतंकवादी इस साल फरवरी में लाहौर के माल रोड पर हुए आत्मघाती हमले में शामिल थे। आत्मघाती हमले में छह पुलिसकर्मियों सहित 15 लोग मारे गए थे।

जमात उल अहरार ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी। सीटीडी के एक अधिकारी ने कहा कि आज सुबह सीटीडी की एक टीम माल रोड आत्मघाती हमले से जुड़े अनवारुल हक, इरफान और इमाम शाह नाम के तीन आतंकवादियों को उस स्थान की पहचान के लिए मनावन लेकर गई जहां उन्होंने हथियार और गोला-बारूद छिपाए थे। वहां पहुंचने पर इन आतंकियों के सहयोगियों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस टीम ने जवाबी गोलीबारी की। इसमें 10 आतंकवादी मारे गए। मरने वालों में अनवारुल हक, इरफान और इमाम भी शामिल हैं। पुलिस टीम पर हमला करने वाले सात आतंकवादियों में से दो की पहचान अताउर रहमान और अब्दुल्ला के रूप में हुई है।
अधिकारी ने कहा कि मारे गए सभी 10 आतंकवादी जमात उल अहरार और तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान से जुड़े थे। स्थल से हथगोलों और विस्फोटक सामग्री सहित अन्य हथियार मिले हैं। पाकिस्तान की पंजाब विधानसभा के बाहर 13 फरवरी को एक विरोध रैली के दौरान जमात उल अहरार के एक आत्मघाती बम हमलावर ने खुद को विस्फोटक से उड़ा लिया था। इस आत्मघाती हमले में मरने वाले 15 लोगों में दो वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भी शामिल थे। इसमें 71 से अधिक लोग घायल हुए थे। पुलिस ने अनवारुल हक को सीसीटीवी की मदद से गिरफ्तार किया था और उसके अन्य सहयोगियों को बाजौर कबाइली इलाके से पकड़ा था। गत बुधवार को लाहौर के बाडियान रोड पर सेना की एक टीम पर आत्मघाती हुआ था जिसमें पांच सैनिकों सहित सात लोग मारे गए थे। तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान ने हमले की जिम्मेदारी ली थी। पुलिस ने सैनिकों पर हमले के संबंध में अब तक 15 संदिग्धों को हिरासत में लिया है। पुलिस ने कहा कि शुरूआती जांच से पता चलता है कि हमलावर और उसका आका मोटरसाइकिल पर थे। उन्होंने जनगणना के कार्य में शामिल सैन्यकर्मियों का लगातार पीछा किया। जब सैन्यकर्मियों का वाहन रुका और वे सामग्री उतारने लगे तो आत्मघाती हमलावर उनके पास आया और विस्फोटक से खुद को उड़ा लिया।

 

Leave a Comment