Share
‘हिंदी मीडियम’ देखने के 5 कारण

‘हिंदी मीडियम’ देखने के 5 कारण

मुंबई। शुक्रवार 19 मई को रिलीज़ हो रही फ़िल्म हिंदी मीडियम पिछले कुछ दिनों से लगातार चर्चा में है। सभी बड़े समीक्षकों ने फ़िल्म को अच्छे स्टार्स दिए हैं। बहरहाल, फ़िल्म देखने से पहले हम आपको बता रहे हैं कि फ़िल्म ‘हिंदी मीडियम’ आखिर क्यों देखी जाए! आइये जानते हैं…

पेरेंट्स की चिंता

कहते हैं आज कॉम्पटीशन का युग है और इस युग में आपको मुकाबला करना है तो अंग्रेजी ही आपका हथियार है। ज़ाहिर है, अंग्रेजी का जलवा दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में सिर्फ स्टूडेंट्स ही नहीं बल्कि उनके पेरेंट्स भी यही चाहते हैं कि उनका बच्चा अंग्रेजी मीडियम में पढ़े। कई बार पेरेंट्स खुद हिंदी मीडियम से या फिर बेपढ़े-लिखे भी होते हैं। ऐसे पेरेंट्स को इंग्लिश मीडियम में अपने बच्चों को दाखिला कराने के लिए किस तरह की चुनातियों का सामना करना पड़ता है, अगर आप इस बात को समझना चाहते हैं तो यह फ़िल्म आपको ज़रूर देखनी चाहिए!

कनेक्शन

कहानी, स्क्रीनप्ले, संवाद, एक्टिंग हर स्तर पर यह फ़िल्म आपको बांधे हुए रखती है। ज़्यादातर दर्शक इस फ़िल्म से एक कनेक्शन महसूस करेंगे!

हंसाती भी है और रुलाती भी

यह फ़िल्म न सिर्फ आपको हंसाती है बल्कि कई बार रुला भी देती है। दीपक डोबरियाल जैसे आर्टिस्ट आपको भीतर तक छूने का दम-खम रखते हैं।

इरफ़ान ख़ान फैक्टर 

इरफ़ान ख़ान की अपनी एक ज़बरदस्त फैन फॉलोविंग है। एक टीवी विज्ञापन के हल्के-फुल्के स्क्रिप्ट में भी इरफ़ान जिस तरह से जान डाल देते हैं वो काबिलेतारीफ है। तो अगर आप इरफ़ान के फैन हैं तो आपको यह फ़िल्म मिस नहीं करनी चाहिए।

सामजिक विसंगति

हिंदी और अंग्रेजी के बढ़ रहे भेद भाव को भी फ़िल्म में बखूबी दिखाया गया है। अंग्रेजी भाषा नहीं बल्कि एक क्लास बन गयी है और इस क्लास में घुसने की तड़प को बखूबी बयान करती है यह फ़िल्म। फ़िल्म में इरफ़ान ख़ान, सबा क़मर, दीपक डोबरियाल, अमृता सिंह आदि एक्टर्स ने बेहतरीन काम किया है।

Leave a Comment